BREAKING NEWS

Press Release

Record production of food grains in 2016-17:Radha Mohan Singh

NNWN/ New Delhi, 2017-07-14

Union Agriculture and Farmers Welfare Minister Radha Mohan Singh said that  there has been a record production of food grains in 2016-17 and all previous records were broken.Singh said as per the Third Advance Estimates food grain production in the country has increased to 273 MT in 2016-17, oil seeds to 32.5 MT, and sugarcane to 306 MT.  Fruits and Vegetable production has increased to 287 MTs, according to the Second Advance Estimate. He was speaking at the National Summit on Smart Agriculture Marketing Solutions to Double the Farmers Income organised in Federation of Indian Chambers of Commerce and Industry FICCI in Delhi on Friday. 

 

Hindi Section

NNWN / New Delhi,2017-06-28

कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग ने स्वच्छता पखवाड़ा के अंतर्गत आज यहां राममनोहर लोहिया अस्पताल के परिसर में स्वच्छता अभियान में हिस्सा लिया। विभाग के उप सचिव श्री सुरेश कुमार और अपर सचिव श्री राजेश्वर लाल के नेतृत्व में करीब 50 कर्मियों ने अस्पताल के प्रशासनिक खंड से जुड़े पार्क में स्वच्छता अभियान में हिस्सा लिया।

स्वच्छता पखवाड़ा के अंतर्गत डीओपीटी विभिन्न गतिविधियां चला रहा है। पेयजल और स्वच्छता मंत्रालय द्वारा स्वच्छता पखवाड़ा 16 जून से 30 जून 2017 तक चलाया जा रहा है।

स्वच्छता अभियान के दौरान कचरे के 9 पैकेट एकत्रित किये गये इनमें अधिकतर पेड़ों के पत्ते और प्राकृतिक तरीके से सड़ने वाला सामान था। इसके अलावा कुछ मिला जुला कचरा भी एकत्र किया गया। कचरे के सभी पैकेट अस्पताल प्रशासन के प्रभारी को खाद बनाने सहित उसके उचित इस्तेमाल/निपटारे के लिए सौंप दिये गये।

 

NNWN / Shimla, 2017-05-12
 
केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्री जे .पी. नड्डा ने आज मंडी में देश के सार्वभौमिक टीकाकरण कार्यक्रम (यूआईपी) में न्‍यूमोकोकल कंजुगेट टीका (पीसीवी) लॉंच करने की घोषणा के अवसर पर कहा कि ‘टीका से बचाव वाली बीमारियों से देश में किसी भी बच्‍चे की मृत्‍यु नहीं होनी चाहिए‘ यही हमारी सरकार का लक्ष्‍य एवं प्रतिबद्धता है। उन्‍होंने कहा कि हम शिशु मृत्‍यु दर को कम करने एवं अपने शिशुओं को स्‍वस्‍थ भविष्‍य उपलब्‍ध कराने के प्रति‍ वचनबद्ध हैं। भारत के टीकाकरण कार्यक्रम में इसे एक ऐतिहासिक क्षण तथा एक उदाहरण देने योग्‍य कदम बताते हुए केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने कहा कि सरकार बच्‍चों में मृत्‍यु दर एवं रुग्णता दर को कम करने के प्रति प्रतिबद्ध है। उन्‍होंने कहा कि रुटीन टीकाकरण को मजबूत बनाना भारत के बच्‍चों में एक अनिवार्य निवेश है तथा यह देश का स्‍वस्‍थ भविष्‍य सुनिश्चित करेगा।
 
पीसीवी बच्‍चों को निमोनिया एवं मेनिनजाइटिस जैसी न्‍यूमोकोकल बीमारियों के प्रचंड रूपों से सुरक्षा प्रदान करती है। वर्तमान में यह टीका पहले चरण में हिमाचल प्रदेश एवं बिहार एवं उत्‍तर प्रदेश के कुछ हिस्‍सों के लगभग 21 लाख बच्‍चों को दिया जाएगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  की टीका से बचाव वाली बीमारियों से बच्‍चों की जान बचाने की प्रतिबद्धता को दुहराते हुए नड्डा ने कहा कि सरकार ने कुल टीकाकरण की दिशा में उल्‍लेखनीय कदम उठाए हैं।  मिशन इंद्रधनुष के तहत अभी तक 2.6 करोड़ से अधिक लाभार्थियों का टीकाकरण कराया जा चुका है।
 
स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने यह भी कहा कि ये सभी टीके निजी क्षेत्र में न केवल भारत में बल्कि दुनिया भर में कई वर्षों से उपलब्‍ध थे। श्री नड्डा ने कहा कि ‘निजी क्षेत्र में ये टीके केवल समृद्ध वर्ग के लिए ही सुलभ थे, यूआईपी के तहत उन्‍हें उपलब्‍ध कराने के जरिये सरकार  निर्धन एवं वंचित वर्गों के लिए भी समान रूप से उनकी उपलब्‍धता सुनिश्चित कर रही है।’ 

Submit to DeliciousSubmit to DiggSubmit to FacebookSubmit to Google PlusSubmit to StumbleuponSubmit to TechnoratiSubmit to TwitterSubmit to LinkedIn

NNWN/ Hyderabad, 2017-02-24

The heat wave , its adverse impact on the environment and how to mitigate it are some of the issues discussed at the two-day national workshop on Preparation of Heat Wave Action Plan in Hyderabad which ended on Friday. In the meeting, participants resolved to work towards mitigating the adverse impact of the imminent heat wave this year. Organised by the National Disaster Management Authority (NDMA) in collaboration with the Telengana government, NDMA member  R K Jain said the focus of all our efforts should be on reducing the number of deaths. We should work towards translating available data and research into specific actions to reduce the impact of heat waves, he added.

Expressing the concern, participants underscored the need to bring about some fundamental changes in our built environment to augment heat wave preparedness. The session on Monitoring, Review and Updation of Heat Action Plan was chaired by Shri Kamal Kishore, Member, NDMA. The session discussed the importance of coordination amongst all agencies and regular monitoring of the heat wave situation. It highlighted the significance of reviewing and updating Heat Action Plans to suit the changes in an environment. Discussing the need for spreading awareness on heat wave, its ill effects, symptoms and simple mitigation measures, Jain emphasised on the need to extensively use IEC (Information, Education and Communication) campaigns to reach out to the masses, especially to weaker sections of society as they form the most vulnerable segment of population. He reiterated that efforts towards heat wave preparedness would mean something only if our collaborative efforts are able to save lives.  Dr. D.N. Sharma, Member, NDMA, underlined the need to fine-tune Heat Action Plans right up to the village level so that traditional knowledge and indigenous practices are integrated in their plans to enhance the efficacy of their mitigation measures.

Heat waves often lead to dehydration, heat exhaustion, stress and even a fatal heat stroke. With advance planning and preparedness, heat wave induced deaths and illnesses can be brought down. In 2016, with NDMA's ‘Guidelines for Preparation of Action Plan – Prevention and Management of Heat-Wave’ and the pro-active approach of some of the most vulnerable States, the number of deaths in the country came down significantly.  Three technical sessions - Heat Wave Action Plan and Risk Reduction, Experience Sharing of Heat prone States and Implementations of Mitigation Measures and Early Warning and Forecasting of Heat Wave - were held on the first day of the workshop. Senior officials from NDMA, experts on heat wave, early warning and forecasting agencies, State governments and research institutions participated in the workshop.

 

ira-ad 2x3 inch.png