Hindi Section

By Neelam Jeena/12-01-2020

हिंदी साहित्य के प्रख्यात आलोचक डॉ नामवर सिंह द्वारा गठित नारायणी साहित्य अकादमी द्वारा राष्ट्रीय पुस्तक मेले में ८ जनवरी को एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया।
'भारतीय भाषा में बाल साहित्य' विषय पर चर्चा एवं काव्य गोष्ठी का आयोजन किया गया। चर्चा के अंतर्गत कई गणमान्य अतिथियों ने भाग लिया। कावय गोष्ठी में कवियों द्वारा अपने विचार कविताओं के माध्यम से रखे।

यशपाल सिंह चौहान,सविता चढ्ढा ,जनार्दन सिंह यादव,बाबा कानपुरी,डा,पुष्पा जोशी, जगदीश मीणा जी, गीतांजलि जी, चंद्रकांता सिधार, असलम बेताब, सरफराज,आरिफ गीतकार,डा, प्रियदर्शनी,मालती मिश्रा आशीष श्रीवास्तव,रीता पात्रा, सुमित भार्गव , खालिद आज़मी देवेंद्र मांझी और अनेक गणमान्य कवि ,शायर एवं साहित्यकारों नेअपनी उपस्थिति दर्ज़ करके कार्यक्रम की गरिमा  को बढ़ाया।अंत में अध्यक्ष पुष्पा सिंह विसेन ने सभी का धन्यवाद किया। इस आयोजन के दौरान सभी गणमान्य अतिथियों को अकादमी द्वारा प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया। 

NNW/30-08-2019

टोंको-रोंको-ठोंको क्रांतिकारी मोर्चा के द्वारा नर्मदा बचाओ आंदोलन की नेत्री मेधा पाटकर जी के द्वारा नर्मदा किनारे छोटा बड़दा में जारी "नर्मदा चुनौती अनिश्चितकालीन सत्याग्रह" के समर्थन में मुख्यमंत्री कमलनाथ को कलेक्टर सीधी के माध्यम से ज्ञापन सौंपा गया। मेधा पाटकर द्वारा सत्याग्रह आंदोलन सरदार सरोवर में 192 गांव और एक नगर को बिना पुनर्वास डूबाने की केंद्र और गुजरात सरकार के विरोध में किया जा रहा है | सरदार सरोवर बांध से प्रभावित 192 गांव और एक नगर में 32,000 परिवार निवासरत है ऐसी स्थिति में बांध में 138.68 मीटर पानी भरने से 192 गांव और 1 नगर की जल हत्या होगी | आज बांध में 134 मीटर पानी भरने से कई गांव जलमग्न हो गये हैं हजारों हेक्टर जमीन डूब गई है जिनका भी सर्वोच्च अदालत के फैसले अनुसार 60 लाख रूपये मिलना बाकी है कई घरों का भू - अर्जन होना बाकी है और ऐसी स्थिति में लोगों को बिना पुनर्वास डूबाया जा रहा है। नर्मदा घाटी के सरदार सरोवर के हजारों विस्थापित परिवार, गांव अमानवीय डूब का सामना कर रहे है। गुजरात और केंद्र शासन से ही जुड़े नर्मदा नियंत्रण प्राधिकरण ने कभी न विस्थापितों के पुनर्वास की, न ही पर्यावरणीय क्षतिपूर्ति की परवाह की है न ही सत्य रिपोर्ट या शपथ पत्र पेश किये है। हजारों परिवारों का सम्पूर्ण पुनर्वास भी मध्य प्रदेश में अधूरा है, पुनर्वास स्थलों पर कानूनन सुविधाएँ नही है। ऐसे में विस्थापित अपने मूल गाँव में खेती, आजीविका डूबते देख संघर्ष कर रहे है। ऐसे में आज की मध्य प्रदेश सरकार लोगो का साथ कैसे छोड़ सकती है। मघ्यप्रदेश के मुख्य सचिव द्वारा नर्मदा नियंत्रण प्राधिकरण को भेजे गये 27.05.2019 के पत्र अनुसार 76 गांवों में 6000 परिवार डूब क्षेत्र में निवासरत है। 8500 अर्जियां तथा 2952 खेती या 60 लाख की पात्रता के लिए अर्जियाँ लंबित है। गांवो में विकल्प में अधिकार न पाये दुकानदार, छोटे उद्योग, कारीगर, केवट, कुम्हार को डूब में लाकर क्या इन गांवों की हत्या करने जैसा नही है? इसीलिए किसी भी हालत में सरदार सरोवर में 122 मी. के उपर पानी नहीं रहे, यह मध्य प्रदेश सरकार को देखना होगा। जिसके लिये नर्मदा बचाओं आंदोलन की नेता मेधा पाटकर द्वारा अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल की जा रही है। ज्ञापन पत्र सौप कर कमलनाथ सरकार से अपेक्षा की गई है कि तुरंत संवेदनशील युध्द स्तरीय, न्यायपूर्ण निर्णय और कार्यवाही करे।

Agriculture & Drought

By Neelam Jeena
 
Over forty farmers unions recently met in New Delhi to discuss free trade agreement under the Regional Comprehensive Economic Partnership of RCEP). These farmers unions unanimously reject the Regional Comprehensive Economic Partnership (RCEP) free trade agreement which India is currently negotiating with 16 countries- which include major economies…

Read more

NNWN / Khajuraho, MP, 2017-12-03

Social activist Anna Hazare seems to be upset with Prime Minister Narendra Modi now. The reason is that he has got no reply from him for the letters he had written to in connection with Lokpal and issues related to farmers and agricultural land. On…

Read more

NNWN / New Delhi, 2017-10-15

Union Agriculture Minister Radha Mohan Singh said that his government is giving preference to woman kisan (Farmer) under various policies such as organic farming and self employment scheme. Speaking at Rashtriya Mahila Kisan Diwas in the Capital on Sunday, Singh said that the contribution of…

Read more

NNWN/ Bhopal, 2018-07-10
 
बीना परियोजना प्रभावित किसानों की महापंचायत ग्राम खेजरामाफ़ी में आयोजित की गई। जिसमें 16 जुलाई को राज्यपाल एवं जलसंसाधन मंत्री को ज्ञापन देने का निर्णय लिया गया। महापंचायत को संवोधित करते हुए किसान संघर्ष समिति के कार्यकारी अध्यक्ष जनांदोलनों के राष्ट्रीय समन्वय के राष्ट्रीय संयोजक पूर्व विधायक डॉ.सुनीलम…

Read more

NNWN / New Delhi, 2017-11-30

UN based Walmart Foundation has announced nearly 2 million US dollars grant to non-profit consulting firm, Agribusiness Systems International (ASI) to help small farmers in India diversify markets for their produce. This has come as a major relief for farmers who have been demanding financial…

Read more

NNWN / New Delhi, 2017-10-14

Union Agriculture and Farmers Welfare Minister Radha Mohan Singh on Saturday said the government started PMKSY to provide a permanent solution from drought. Three ministries are implementing this scheme in mission mode and the Ministry of Water Resources is leading the project. PMKSY aims not…

Read more

NNWN/ New Delhi, 2017-12-24

The Department of Rural Development in association with the state governments  have completed the ranking of 50,000 Gram Panchayats on parameters of physical infrastructure, human development and economic activities. This facilitates identification of gaps in a quest for Poverty Free Gram Panchayats.

Fifty thousand Gram Panchayats…

Read more

NNWN / New Delhi, 2017-11-26

November 26 ( Sunday) is celebrated at National Milk Day in India. That's because, this is the birthday of Verghese Kurien, the Father of White Revolution in India.Kurien who made the idea of dairy production a reality, laid the foundation of India's most popular dairy…

Read more

NNWN / New Delhi, 2017-02-28

Twenty high yielding varieties of plant species have been developed which can completely change the character of plywood industry. Dehradun based institutes of Indian Council of Forestry Research and Education (ICFRE)have developed 20 high-yielding varieties of plant species. A high level meeting of the Variety…

Read more