Hindi Section

By Neelam Jeena/12-01-2020

हिंदी साहित्य के प्रख्यात आलोचक डॉ नामवर सिंह द्वारा गठित नारायणी साहित्य अकादमी द्वारा राष्ट्रीय पुस्तक मेले में ८ जनवरी को एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया।
'भारतीय भाषा में बाल साहित्य' विषय पर चर्चा एवं काव्य गोष्ठी का आयोजन किया गया। चर्चा के अंतर्गत कई गणमान्य अतिथियों ने भाग लिया। कावय गोष्ठी में कवियों द्वारा अपने विचार कविताओं के माध्यम से रखे।

यशपाल सिंह चौहान,सविता चढ्ढा ,जनार्दन सिंह यादव,बाबा कानपुरी,डा,पुष्पा जोशी, जगदीश मीणा जी, गीतांजलि जी, चंद्रकांता सिधार, असलम बेताब, सरफराज,आरिफ गीतकार,डा, प्रियदर्शनी,मालती मिश्रा आशीष श्रीवास्तव,रीता पात्रा, सुमित भार्गव , खालिद आज़मी देवेंद्र मांझी और अनेक गणमान्य कवि ,शायर एवं साहित्यकारों नेअपनी उपस्थिति दर्ज़ करके कार्यक्रम की गरिमा  को बढ़ाया।अंत में अध्यक्ष पुष्पा सिंह विसेन ने सभी का धन्यवाद किया। इस आयोजन के दौरान सभी गणमान्य अतिथियों को अकादमी द्वारा प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया। 

NNW/30-08-2019

टोंको-रोंको-ठोंको क्रांतिकारी मोर्चा के द्वारा नर्मदा बचाओ आंदोलन की नेत्री मेधा पाटकर जी के द्वारा नर्मदा किनारे छोटा बड़दा में जारी "नर्मदा चुनौती अनिश्चितकालीन सत्याग्रह" के समर्थन में मुख्यमंत्री कमलनाथ को कलेक्टर सीधी के माध्यम से ज्ञापन सौंपा गया। मेधा पाटकर द्वारा सत्याग्रह आंदोलन सरदार सरोवर में 192 गांव और एक नगर को बिना पुनर्वास डूबाने की केंद्र और गुजरात सरकार के विरोध में किया जा रहा है | सरदार सरोवर बांध से प्रभावित 192 गांव और एक नगर में 32,000 परिवार निवासरत है ऐसी स्थिति में बांध में 138.68 मीटर पानी भरने से 192 गांव और 1 नगर की जल हत्या होगी | आज बांध में 134 मीटर पानी भरने से कई गांव जलमग्न हो गये हैं हजारों हेक्टर जमीन डूब गई है जिनका भी सर्वोच्च अदालत के फैसले अनुसार 60 लाख रूपये मिलना बाकी है कई घरों का भू - अर्जन होना बाकी है और ऐसी स्थिति में लोगों को बिना पुनर्वास डूबाया जा रहा है। नर्मदा घाटी के सरदार सरोवर के हजारों विस्थापित परिवार, गांव अमानवीय डूब का सामना कर रहे है। गुजरात और केंद्र शासन से ही जुड़े नर्मदा नियंत्रण प्राधिकरण ने कभी न विस्थापितों के पुनर्वास की, न ही पर्यावरणीय क्षतिपूर्ति की परवाह की है न ही सत्य रिपोर्ट या शपथ पत्र पेश किये है। हजारों परिवारों का सम्पूर्ण पुनर्वास भी मध्य प्रदेश में अधूरा है, पुनर्वास स्थलों पर कानूनन सुविधाएँ नही है। ऐसे में विस्थापित अपने मूल गाँव में खेती, आजीविका डूबते देख संघर्ष कर रहे है। ऐसे में आज की मध्य प्रदेश सरकार लोगो का साथ कैसे छोड़ सकती है। मघ्यप्रदेश के मुख्य सचिव द्वारा नर्मदा नियंत्रण प्राधिकरण को भेजे गये 27.05.2019 के पत्र अनुसार 76 गांवों में 6000 परिवार डूब क्षेत्र में निवासरत है। 8500 अर्जियां तथा 2952 खेती या 60 लाख की पात्रता के लिए अर्जियाँ लंबित है। गांवो में विकल्प में अधिकार न पाये दुकानदार, छोटे उद्योग, कारीगर, केवट, कुम्हार को डूब में लाकर क्या इन गांवों की हत्या करने जैसा नही है? इसीलिए किसी भी हालत में सरदार सरोवर में 122 मी. के उपर पानी नहीं रहे, यह मध्य प्रदेश सरकार को देखना होगा। जिसके लिये नर्मदा बचाओं आंदोलन की नेता मेधा पाटकर द्वारा अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल की जा रही है। ज्ञापन पत्र सौप कर कमलनाथ सरकार से अपेक्षा की गई है कि तुरंत संवेदनशील युध्द स्तरीय, न्यायपूर्ण निर्णय और कार्यवाही करे।

Children

NNW/06-09-2019

Save the Children organised the Right Start Summit in Hyderabad on Thursday on the eve of its  Centenary Celebrations. Organised in collaboration with ICMR-National Institute of Nutrition.the day long summit provided opportunity to participants to showcase their work done in association with Save the Children.
Telengana Minister for Health…

Read more

NNWN/New Delhi, 2018-07-22

The team at leading National NGO Heart Care Foundation of India (HCFI), led by its President Padma Shri Awardee, Dr K K Aggarwal, visited the Kailash Satyarthi Children’s Foundation (KSCF) in New Delhi on Saturday

Children who have undergone successful heart surgeries as part of HCFI’s key…

Read more

NNWN/ New Delhi, 2018-01-11

Rajya Sabha MP Rajeev Chandrashekhar has urged people to support the cause of saving children from being forced into prostitution . Through change.org, Chandrashekhar made an appeal in which he said that men are paying money to have sex with children."  am a Rajya Sabha MP…

Read more

Mumbai based Arpan NGO working for the  cause of Child Sexual Abuse has launched online platform( www.arpanelearn.com)  for children,  parents and teachers to talk to their children about Personal Safety Education.NGO Arpan has designed online courses for four to ten year old students. The NGO Arpan has also…

Read more

Anju Grover/ New Delhi, 2018-05-31


Good news for India and policy makers. Save the Children's End of childhood index shows an improvement in India's ranking. According to it, India has shown a decline in the rate of child marriage which in turn has helped increase its score 14 points from…

Read more

NNWN/ Kolkata, 2017-12-25

Even as people in metro cities in developing country like India may frequently be using internet but what about the people in the least developed countries? The latest UNICEF report findings have made startling revelations. According to UNICEFreport, only 15 per cent people have access to the Internet…

Read more

Women and Child Development ministry is formulating guidelines for  children's hostels in order to ensure minimum standards of care to children. Parents who keep their children in children's homes, demanded for minimum standard of care for children in these homes. The ministry's move came in the wake of Supreme Court…

Read more

NNWN/ New Delhi, 2018-03-19

Deeply concerned with the state of children affairs, the Supreme Court  on Monday directed all High Courts in the country to give details on whether special courts to ensure speedy trial of offences against children have been set up in each district.The three judge bench comprising…

Read more

NNWN / Kabu, 2017-11-27

School going girls in Afghanistan are facing peculiar type of harassment in the heart o Kidnapping, sexual harassment, and bullets are just some of the dangers Afghan girls face on their way to school. “There were two bombs in the school,” said 16-year-old Malalai, describing an…

Read more