Hindi Section

By Neelam Jeena/12-01-2020

हिंदी साहित्य के प्रख्यात आलोचक डॉ नामवर सिंह द्वारा गठित नारायणी साहित्य अकादमी द्वारा राष्ट्रीय पुस्तक मेले में ८ जनवरी को एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया।
'भारतीय भाषा में बाल साहित्य' विषय पर चर्चा एवं काव्य गोष्ठी का आयोजन किया गया। चर्चा के अंतर्गत कई गणमान्य अतिथियों ने भाग लिया। कावय गोष्ठी में कवियों द्वारा अपने विचार कविताओं के माध्यम से रखे।

यशपाल सिंह चौहान,सविता चढ्ढा ,जनार्दन सिंह यादव,बाबा कानपुरी,डा,पुष्पा जोशी, जगदीश मीणा जी, गीतांजलि जी, चंद्रकांता सिधार, असलम बेताब, सरफराज,आरिफ गीतकार,डा, प्रियदर्शनी,मालती मिश्रा आशीष श्रीवास्तव,रीता पात्रा, सुमित भार्गव , खालिद आज़मी देवेंद्र मांझी और अनेक गणमान्य कवि ,शायर एवं साहित्यकारों नेअपनी उपस्थिति दर्ज़ करके कार्यक्रम की गरिमा  को बढ़ाया।अंत में अध्यक्ष पुष्पा सिंह विसेन ने सभी का धन्यवाद किया। इस आयोजन के दौरान सभी गणमान्य अतिथियों को अकादमी द्वारा प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया। 

NNW/30-08-2019

टोंको-रोंको-ठोंको क्रांतिकारी मोर्चा के द्वारा नर्मदा बचाओ आंदोलन की नेत्री मेधा पाटकर जी के द्वारा नर्मदा किनारे छोटा बड़दा में जारी "नर्मदा चुनौती अनिश्चितकालीन सत्याग्रह" के समर्थन में मुख्यमंत्री कमलनाथ को कलेक्टर सीधी के माध्यम से ज्ञापन सौंपा गया। मेधा पाटकर द्वारा सत्याग्रह आंदोलन सरदार सरोवर में 192 गांव और एक नगर को बिना पुनर्वास डूबाने की केंद्र और गुजरात सरकार के विरोध में किया जा रहा है | सरदार सरोवर बांध से प्रभावित 192 गांव और एक नगर में 32,000 परिवार निवासरत है ऐसी स्थिति में बांध में 138.68 मीटर पानी भरने से 192 गांव और 1 नगर की जल हत्या होगी | आज बांध में 134 मीटर पानी भरने से कई गांव जलमग्न हो गये हैं हजारों हेक्टर जमीन डूब गई है जिनका भी सर्वोच्च अदालत के फैसले अनुसार 60 लाख रूपये मिलना बाकी है कई घरों का भू - अर्जन होना बाकी है और ऐसी स्थिति में लोगों को बिना पुनर्वास डूबाया जा रहा है। नर्मदा घाटी के सरदार सरोवर के हजारों विस्थापित परिवार, गांव अमानवीय डूब का सामना कर रहे है। गुजरात और केंद्र शासन से ही जुड़े नर्मदा नियंत्रण प्राधिकरण ने कभी न विस्थापितों के पुनर्वास की, न ही पर्यावरणीय क्षतिपूर्ति की परवाह की है न ही सत्य रिपोर्ट या शपथ पत्र पेश किये है। हजारों परिवारों का सम्पूर्ण पुनर्वास भी मध्य प्रदेश में अधूरा है, पुनर्वास स्थलों पर कानूनन सुविधाएँ नही है। ऐसे में विस्थापित अपने मूल गाँव में खेती, आजीविका डूबते देख संघर्ष कर रहे है। ऐसे में आज की मध्य प्रदेश सरकार लोगो का साथ कैसे छोड़ सकती है। मघ्यप्रदेश के मुख्य सचिव द्वारा नर्मदा नियंत्रण प्राधिकरण को भेजे गये 27.05.2019 के पत्र अनुसार 76 गांवों में 6000 परिवार डूब क्षेत्र में निवासरत है। 8500 अर्जियां तथा 2952 खेती या 60 लाख की पात्रता के लिए अर्जियाँ लंबित है। गांवो में विकल्प में अधिकार न पाये दुकानदार, छोटे उद्योग, कारीगर, केवट, कुम्हार को डूब में लाकर क्या इन गांवों की हत्या करने जैसा नही है? इसीलिए किसी भी हालत में सरदार सरोवर में 122 मी. के उपर पानी नहीं रहे, यह मध्य प्रदेश सरकार को देखना होगा। जिसके लिये नर्मदा बचाओं आंदोलन की नेता मेधा पाटकर द्वारा अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल की जा रही है। ज्ञापन पत्र सौप कर कमलनाथ सरकार से अपेक्षा की गई है कि तुरंत संवेदनशील युध्द स्तरीय, न्यायपूर्ण निर्णय और कार्यवाही करे।

Submit to DeliciousSubmit to DiggSubmit to FacebookSubmit to Google PlusSubmit to StumbleuponSubmit to TechnoratiSubmit to TwitterSubmit to LinkedIn

NNW/22-01-2020

In a major step towards environmental protection, India has successfully phased out of Hydrochlorofluorocarbon (HCFC)-141 b, a chemical used by foam manufacturing enterprises. This chemical is one of the most potent ozone depleting chemical after Chlorofluorocarbons (CFCs) . Manufacturing companies use (HCFC)-141 b as a blowing agent in the production of rigid polyurethane (PU) foams. With this, It has successfully met the challenge to phase out (HCFC)-141b by January 1, 2020, states the release.

According to the Environment Ministry notification, the issuance of import license for HCFC-141b is prohibited from 1st January, 2020 under Ozone Depleting Substances (Regulation and Control) Amendment Rules, 2019 issued under the Environment (Protection) Act, 1986. India used to import HCFC-141b for domestic purposes,

What does the notification means:

With this notification, prohibiting the import of HCFC-141 b, the country has completely phased out the important ozone depleting chemical. Simultaneously, the use of HCFC-141 b by foam manufacturing industry has also been closed as on 1st January, 2020 under the Ozone Depleting Substances (Regulation and Control) Amendment Rules, 2014.

Nearly, 50 % of the consumption of ozone depleting chemicals in the country was attributable to HCFC-141 b in the foam sector. The Ministry adopted a structured approach to engage with foam manufacturing enterprises for providing technical and financial assistance in order to transition to non-ODS and low GWP technologies under HCFC Phase out Management Plan (HPMP). Around 175 foam manufacturing enterprises have been covered under HPMP out of which, 163 enterprises are covered under stage II of HPMP. The complete phase out of HCFC 141 b from the country in foam sector is among the first at this scale in Article 5 parties (developing countries) under the Montreal Protocol. The implementation of HPMP through regulatory and policy actions, implementation of technology conversion projects has removed around 7800 Metric Tonnes of HCFC 141-b from the baseline level of 2009 and 2010 of the country.

Benefits of phase out of HCFC-141 b

It has twin environmental benefits viz. (i) assisting the healing of the stratospheric ozone layer,and (ii) towards the climate change mitigation due to transitioning of foam manufacturing enterprises at this scale under HPMP to low global warming potential alternative technologies.

Foam sector:

The polyurethane foam sector has links with important economic sectors related to buildings, cold storages and cold chain infrastructure, automobiles, commercial refrigeration, domestic appliances such as refrigerators, water geysers, thermoware, office and domestic furniture applications, specific high value niche applications etc. In India, the foam manufacturing sector is mix of large, medium and small enterprises having varying capacities, with preponderance of MSMEs. Many of the MSMEs operate largely in the informal sector.