Hindi Section

By Neelam Jeena/12-01-2020

हिंदी साहित्य के प्रख्यात आलोचक डॉ नामवर सिंह द्वारा गठित नारायणी साहित्य अकादमी द्वारा राष्ट्रीय पुस्तक मेले में ८ जनवरी को एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया।
'भारतीय भाषा में बाल साहित्य' विषय पर चर्चा एवं काव्य गोष्ठी का आयोजन किया गया। चर्चा के अंतर्गत कई गणमान्य अतिथियों ने भाग लिया। कावय गोष्ठी में कवियों द्वारा अपने विचार कविताओं के माध्यम से रखे।

यशपाल सिंह चौहान,सविता चढ्ढा ,जनार्दन सिंह यादव,बाबा कानपुरी,डा,पुष्पा जोशी, जगदीश मीणा जी, गीतांजलि जी, चंद्रकांता सिधार, असलम बेताब, सरफराज,आरिफ गीतकार,डा, प्रियदर्शनी,मालती मिश्रा आशीष श्रीवास्तव,रीता पात्रा, सुमित भार्गव , खालिद आज़मी देवेंद्र मांझी और अनेक गणमान्य कवि ,शायर एवं साहित्यकारों नेअपनी उपस्थिति दर्ज़ करके कार्यक्रम की गरिमा  को बढ़ाया।अंत में अध्यक्ष पुष्पा सिंह विसेन ने सभी का धन्यवाद किया। इस आयोजन के दौरान सभी गणमान्य अतिथियों को अकादमी द्वारा प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया। 

NNW/30-08-2019

टोंको-रोंको-ठोंको क्रांतिकारी मोर्चा के द्वारा नर्मदा बचाओ आंदोलन की नेत्री मेधा पाटकर जी के द्वारा नर्मदा किनारे छोटा बड़दा में जारी "नर्मदा चुनौती अनिश्चितकालीन सत्याग्रह" के समर्थन में मुख्यमंत्री कमलनाथ को कलेक्टर सीधी के माध्यम से ज्ञापन सौंपा गया। मेधा पाटकर द्वारा सत्याग्रह आंदोलन सरदार सरोवर में 192 गांव और एक नगर को बिना पुनर्वास डूबाने की केंद्र और गुजरात सरकार के विरोध में किया जा रहा है | सरदार सरोवर बांध से प्रभावित 192 गांव और एक नगर में 32,000 परिवार निवासरत है ऐसी स्थिति में बांध में 138.68 मीटर पानी भरने से 192 गांव और 1 नगर की जल हत्या होगी | आज बांध में 134 मीटर पानी भरने से कई गांव जलमग्न हो गये हैं हजारों हेक्टर जमीन डूब गई है जिनका भी सर्वोच्च अदालत के फैसले अनुसार 60 लाख रूपये मिलना बाकी है कई घरों का भू - अर्जन होना बाकी है और ऐसी स्थिति में लोगों को बिना पुनर्वास डूबाया जा रहा है। नर्मदा घाटी के सरदार सरोवर के हजारों विस्थापित परिवार, गांव अमानवीय डूब का सामना कर रहे है। गुजरात और केंद्र शासन से ही जुड़े नर्मदा नियंत्रण प्राधिकरण ने कभी न विस्थापितों के पुनर्वास की, न ही पर्यावरणीय क्षतिपूर्ति की परवाह की है न ही सत्य रिपोर्ट या शपथ पत्र पेश किये है। हजारों परिवारों का सम्पूर्ण पुनर्वास भी मध्य प्रदेश में अधूरा है, पुनर्वास स्थलों पर कानूनन सुविधाएँ नही है। ऐसे में विस्थापित अपने मूल गाँव में खेती, आजीविका डूबते देख संघर्ष कर रहे है। ऐसे में आज की मध्य प्रदेश सरकार लोगो का साथ कैसे छोड़ सकती है। मघ्यप्रदेश के मुख्य सचिव द्वारा नर्मदा नियंत्रण प्राधिकरण को भेजे गये 27.05.2019 के पत्र अनुसार 76 गांवों में 6000 परिवार डूब क्षेत्र में निवासरत है। 8500 अर्जियां तथा 2952 खेती या 60 लाख की पात्रता के लिए अर्जियाँ लंबित है। गांवो में विकल्प में अधिकार न पाये दुकानदार, छोटे उद्योग, कारीगर, केवट, कुम्हार को डूब में लाकर क्या इन गांवों की हत्या करने जैसा नही है? इसीलिए किसी भी हालत में सरदार सरोवर में 122 मी. के उपर पानी नहीं रहे, यह मध्य प्रदेश सरकार को देखना होगा। जिसके लिये नर्मदा बचाओं आंदोलन की नेता मेधा पाटकर द्वारा अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल की जा रही है। ज्ञापन पत्र सौप कर कमलनाथ सरकार से अपेक्षा की गई है कि तुरंत संवेदनशील युध्द स्तरीय, न्यायपूर्ण निर्णय और कार्यवाही करे।

Science & Technology

A history was created on Wednesday morning by Indian space agency ISRO when it successfully launched earth observation satellite RISAT-2B. The satellite would enhance the country's surveillance capabilities and provide useful data and pictures for surveillance, agriculture, forestry and disaster management. ISRO’s most trusted workhorse, the Polar Satellite Launch Vehicle…

Read more

NNWN/New Delhi, 2018-01-24

Union Environment minister Dr. Harsh Vardhan has urged the scientists and senior officials of concerned ministries to identify ten priority areas and ensure ground-level implementation that result in time-bound and measurable results.  The Minister said that such an approach will pool and converge latest scientific and…

Read more

NNWN / London, 2017-11-26

Good news for cancer patients. British scientists are developing an immune therapy based on blood cells from patients who have made “miracle” recoveries from the disease. This can give a ray of hope to millions of cancer patients who face difficulties because of complications. According to…

Read more

The countdown has begun for the launch of radar earth imaging observation satellite, RISAT-2B from Satish Dhawan Space Centre in Sriharikota in Andhra Pradesh on Wednesday morning ( May 22). RISAT-2B is an all weather satellite which can collect crucial data for agriculture, forestry and disaster management . The forecasts…

Read more

NNWN/ New Delhi, 2018-01-10

Indian Space Research Organisation ( ISRO) has got new chairman. K Sivan will succeed A S Kiran Kumar whose three year term ends on January 14. Sivan was appointed as the new Chairman of the country's space establishment on Wednesday. Popularly known as the 'Rocket Man',…

Read more

NNWN/ Washington, 2017-08-29

Good news for those suffering from osteoporosis. If research findings by Canadian researchers are believed and come into practice. According to the research published in the journal of bone and Mineral Research, researchers from Canada have discovered a herb - widely used in traditional Chinese medicine -…

Read more

NNWN/ New Delhi, 2018-04-07

India’s space agency ISRO plans to launch a navigation satellite from its spaceport in Sriharikota in Andhra Pradesh on April 12. “The 43rd flight of Polar Satellite Launch Vehicle (PSLV-C41) will launch the Indian Remote Navigation Satellite System (IRNSS-1I) from the first launch pad of the…

Read more

NNWN / 2017-11-29

President said that the Bose Institute occupies a unique and exalted position in the landscape of Indian science. This was one of the earliest scientific institutes to be established in the country. It has served the cause of science and served the cause of India. It has…

Read more

NNW/NASA,2017-08-27

Believe it or not! NASA's Mars orbiter hassent a stunning image of the red planet's snow-covered dunes creating beautiful patterns over the rust coloured background. This is a latest image  taken on May 21 in the Northern hemisphere of Mars by the High Resolution Imaging Science Experiment (HiRISE) camera on…

Read more